• Welcome To Bhrigumantra - A premium Indian Astrology and Bhrigu Jyotish Website
  • Bhrigu Mantra Launched their new website Call us: +91 8591854545
Call Us : +91 8591854545

कहाँ वास करती है लक्ष्मी जी ?

यदि स्पष्ट शब्दों में प्रश्न पूछा जाये  कि जीवन की सार्थकता क्या है ?
तो  नि:संकोच उतर है ,–लक्ष्मी ।यही जीवन का वास्तविक सच है ,क्योकि इसके आभाव में  जीवन का कोई मूल्य नहीं रह जाता ।यदि श्री लक्ष्मी को केवल धन का प्रतीक ना माने वरन सम्पूर्ण जीवन के पूर्णत्व का आधार माने तो एक  पुरुष  में आत्म विश्वास करने  की मूलभूत देवी लक्ष्मी ही  है ।
दिवाली पर लक्ष्मी जी के साथ गणेश जी और सरस्वती जी का पूजन होता है ।लक्ष्मी जी के दाई तरफ सरस्वती जी बायीं तरफ गणेश जी विराज मान होते है ।दोनों तरफ  श्वेत हाथी अपनी सुन्ड़ो को उठाये हुए अमृत कलशों से अमृत धारा द्वारा स्वर्ण  के सामान कांतिदेह वाली श्री का अभिषेक करते है ।माता के दाये हाथ में कमल दुसरे हाथ में मुद्रा कलश  तथा बाये हाथ में कमल और नीचे के हाथ में अभय मुद्रा धारण किये हुए है ।वे कमल के उपर विराज मान है।
दीपावली के दिन लक्ष्मी जी के साथ भगवती काली की भी पूजा होती है इसलिए तो दिवाली की रात्री को काल रात्रि भी कहते है ।यह तीनो महाशक्तियां ही त्रिगुणात्मक विश्व  का नियंत्रण करती है ।।हिन्दू धर्म में श्रीगणेश विनायक यानी विघ्रहर्ता देवता माने गए हैं। श्रीगणेश की उपासना बुद्धि और समृद्धि देकर तन,मन व धन के दोषों का अंत कर देती है।
पुराणों  में लिखा है की जिस घर में सदा कलह रहती है ,लक्ष्मी  उसे त्याग देती है , जहां  परिवार में प्यार और एकता होती है वहां लक्ष्मी जी का वास होता है ।इसलिए दीपावली की रात्री लक्ष्मी जी का पूजन परिवार के सभी सदस्य मिलकर करते है ।।
1 जिस घर में कमल गट्टे की माला ,श्री यंत्र ,कुबेर यंत्र ,दक्षिण वर्ती  शंख ,श्वेतार्क गणपति ,गोमती चक्र पारद शिवलिंग ,पारद श्री यंत्र ,अलौकिक रक्त गुंजा ,कनक धारा यंत्र ,लक्ष्मी कारक कौड़ी , श्रीलक्ष्मी फल ,आदि लक्ष्मी प्रिय वस्तु का पूजन होता है ,वहां लक्ष्मी सदा रहती है ।
जिस घर में धर्म और सदाचार का पालन होता है वहां लक्ष्मी हमेशा वास करती है ।
2  कन्या का ,घर की लक्ष्मी का ,माँ  का जहां सम्मान होता है ।
3  धर्म के मार्ग पर चलने वाले ,औरतों व् कन्या  का समान करने वालो पर लक्ष्मी जी की कृपा बनी रहती है ।
4  आंवले के फल में ,गोबर में शंख में  ,कमल के पुष्प और बीज में  ,श्वेत व् पीले वस्त्र में लक्ष्मी जी का वास है ।
5  जिस घर में स्त्री सदाचारी और बड़ो का सम्मान करनेवाली हो उस घर में लक्ष्मी निश्चित रूप में वास करती है ।
6  जिस घर में अतिथि सत्कार व् अनाज का सम्मान हो वहां लक्ष्मी वास करती है ।
7 जो एकादशी को विष्णु जी को आवला फल भेंट करता है ,उस पर लक्ष्मी की कृपा होती है ।
8 जिस घर में नित्य पूजन व् ईश्वर का भजन होता है ,लक्ष्मी का निवास वहीं होता है ।
9 जो लोग आलसी ,ईश्वर में विश्वास न रखने वाले और लोभी ,कपटी होते है ,लक्ष्मी उनके पास नहीं रहती ।
10  दान पुण्य ,तीर्थ स्थान की यात्रा और स्नान करने वालों पर माँ लक्ष्मी की पूर्ण कृपा होती है ।।
11  तुलसी पर नित्य शाम को दीपक जलाने  से विष्णु जी के साथ साथ लक्ष्मी जी की कृपा बनी रहती है ।
अच्छी सोच व अनुशासन का संकल्प,धर्म का पालन  ऐसे कलह से दूर कर मनचाही कामयाबी व् लक्ष्मी कृपा देने वाला होता है।
जय महा लक्ष्मी ।।

Top